20 June 2020

69000 SHIKSHAK BHARTI में फर्जीवाड़ा करने वाले सरगना से घंटों पूछताछ, इस दौरान एसटीएफ को कई अहम सुराग हाथ लगे हैं

69000 SHIKSHAK BHARTI में फर्जीवाड़ा करने वाले सरगना से घंटों पूछताछ, इस दौरान एसटीएफ को कई अहम सुराग हाथ लगे हैं


सहायक शिक्षक भर्ती में फर्जीवाड़ा करने वाले गिरोह के सरगना डॉ. केएल पटेल से शुक्रवार को पुलिस और स्पेशल टॉस्क फोर्स (एसटीएफ) ने घंटों पूछताछ की। इस दौरान एसटीएफ को कई अहम सुराग हाथ लगे हैं, जिसके आधार पर अब गैंग के दूसरे सदस्यों पर शिकंजा कसने की बात कही जा रही है। सरगना से रेलवे भर्ती, सहायक शिक्षक भर्ती समेत कई अन्य भर्ती परीक्षाओं को लेकर सवाल-जवाब किया गया। कुछ के बारे में उसने जानकारी दी तो कई सवाल का जवाब सीधे न देकर फरार आरोपितों को पता होने के बारे में कहा। करीब छह घंटे तक हुई पूछताछ में दोनों ही मुकदमों के विवेचक को नई जानकारी मिली है। माना जा रहा है अब मामले से जुड़े कई नए राज भी सामने आ सकते हैं।

वर्ष 2019 में रेलवे भर्ती में फर्जीवाड़ा करने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़ एसटीएफ ने किया था। उस मामले में कई आरोपितों को गिरफ्तार किया गया था। साथ ही अभियुक्तों के बयान के आधार पर डॉ. केएल पटेल को नामजद करते हुए वांछित किया गया था। एसटीएफ और पुलिस उसकी तलाश में जुटी रही, लेकिन सरगना चकमा देकर दूसरी भर्ती परीक्षाओं में फर्जीवाड़ा करता रहा। इसी बीच जून 2020 में प्रतापगढ़ के रहने वाले सहायक शिक्षक भर्ती के एक अभ्यर्थी ने परीक्षा में पास कराने के नाम पर साढ़े सात लाख रुपये की ठगी करने का आरोप लगाते हुए सोरांव थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई। इसके बाद पुलिस ने फर्जीवाड़ा करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया। फिर गिरोह के सरगना, उसके कई साथियों व दो अभ्यर्थी समेत 12 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था।

शिवकुटी पुलिस ने रेलवे भर्ती फर्जीवाड़ा के मुकदमे में डॉ. केएल पटेल का ट्रांजिट रिमांड बनवाया। कोर्ट से इजाजत मिलने के बाद शुक्रवार को उसे आठ घंटे के कस्टडी रिमांड पर लेकर पूछताछ की गई। विवेचक दारोगा शिवचरण राम ने बताया कि पूछताछ में कुछ जानकारी मिली है। एसटीएफ ने भी अपने मुकदमे में पूछताछ किया है।

69000 SHIKSHAK BHARTI में फर्जीवाड़ा करने वाले सरगना से घंटों पूछताछ, इस दौरान एसटीएफ को कई अहम सुराग हाथ लगे हैं Rating: 4.5 Diposkan Oleh: news