Primary Ka Master: Nishtha Training Module: निष्ठा प्रशिक्षण के माड्यूल 7, 8 और 9 के ट्रेनिंग लिंक जारी, सभी प्रशिक्षण निर्धारित समयावधि पूर्ण करे, ट्रेनिंग करने के लिए यहां क्लिक करें

Primary ka Master: अपने निष्ठा मॉड्यूल प्रशिक्षण की स्थिति NISHTHA DASHBOARD पर देखने के लिए यहाँ क्लिक करें और निम्न प्रक्रिया अपनाएं, डैशबोर्ड मे आपका नाम नही है तो करे ये काम

सभी प्रकार की प्रतियोगी परीक्षाओं(जैसे-TET/CTET/TGT-PGT/ शिक्षक भर्ती...) के नोट्स के लिए यहाँ क्लिक करें

Primary Ka Master: NISHTHA TRAINING MODULE- 7 (विद्यालय आधारित आंकलन) प्रश्नोत्तरी व गतिविधि का हल देखने के लिए यहां क्लिक करें

Primary Ka Master: NISHTHA TRAINING MODULE- 8 (UP पर्यावरण अध्ययन का शिक्षाशास्त्र (U.P.) प्रश्नोत्तरी व गतिविधि का हल देखने के लिए यहां क्लिक करें

Primary Ka Master: NISHTHA TRAINING MODULE- 9 UP_गणित का शिक्षाशास्त्र (उत्तर प्रदेश) प्रश्नोत्तरी व गतिविधि का हल देखने के लिए यहां क्लिक करें

05 July 2020

PRIMARY KA MASTER: फतेहपुर : कहीं आपकी बीआरसी का भी गोरखपुर जैसा न हो हाल? मानव सम्पदा पोर्टल व अन्य कार्यों के लिए बीआरसी में इकट्ठे हो रहे शिक्षकों के कारण बढ़ा खतरा

PRIMARY KA MASTER: फतेहपुर : कहीं आपकी बीआरसी का भी गोरखपुर जैसा न हो हाल? मानव सम्पदा पोर्टल व अन्य कार्यों के लिए बीआरसी में इकट्ठे हो रहे शिक्षकों के कारण बढ़ा खतरा

मानव संपदा पोर्टल, पौध व पुस्तक वितरण समेत अन्य दूसरे कार्यों के लिए जिले की कई बीआरसी में शिक्षकों को बुलाया जा रहा है। खास तौर पर मानव संपदा पोर्टल में शिक्षकों के विवरण में संशोधन के लिए इस वक्त मारामारी मची है। खंड शिक्षा अधिकारियों के प्रबंधन में कमी के चलते शिक्षकों पर कोरोना का खतरा मंडराने लगा है। गोरखपुर में पिछले माह बीआरसी में संक्रमण जैसी घटना जिले में भी होने की शंकाएं जताई जा रही हैं। मानव संपदा पोर्टल में त्रुटियों संशोधन के लिए कई ब्लॉकों में शिक्षकों को बीआरसी बुलाया जा रहा है। नजीर के तौर पर ऐरायां ब्लॉक में शिक्षकों को एमडीएम फीडिंग, मानव संपदा करेक्शन व बैठकों के लिए न्याय पंचायत वार बुलाया गया है लेकिन इसके बावजूद शिक्षकों की भीड़ काफी हो जाती है। अधिकांश शिक्षकों के विवरण में तमाम त्रुटियां व कमियां हैं। सर्वर व नेटवर्क की समस्या सो अलग। इस कारण एक शिक्षक के संशोधन में काफी समय लगता है। एक दिन में एक या दो न्याय पंचायत के शिक्षक काफी संख्या में हो जाते हैं। जिस कारण बीआरसी में भीड़ हो रही है। कई शिक्षक न तो मास्क लगाते हैं और न ही सामाजिक दूरी जैसे नियमों का पालन करते हैं। बताते हैं कि जिले के अन्य ब्लॉकों में भी ऐसे ही हालात हैं। शिक्षकों की मांग है कि बीआरसी पर बेहतर प्रबंधन किया जाए ताकि शिक्षकों को संक्रमण से बचाया जा सके।

PRIMARY KA MASTER: फतेहपुर : कहीं आपकी बीआरसी का भी गोरखपुर जैसा न हो हाल? मानव सम्पदा पोर्टल व अन्य कार्यों के लिए बीआरसी में इकट्ठे हो रहे शिक्षकों के कारण बढ़ा खतरा Rating: 4.5 Diposkan Oleh: news