Primary Ka Master: Nishtha Training Module: निष्ठा प्रशिक्षण के माड्यूल 10, 11 और 12 के प्रशिक्षण सभी लिंक एक साथ, सभी प्रशिक्षण निर्धारित समयावधि पूर्ण करे, ट्रेनिंग करने के लिए यहां क्लिक करें

Primary ka Master: अपने निष्ठा मॉड्यूल प्रशिक्षण की स्थिति NISHTHA DASHBOARD पर देखने के लिए यहाँ क्लिक करें और निम्न प्रक्रिया अपनाएं, डैशबोर्ड मे आपका नाम नही है तो करे ये काम

सभी प्रकार की प्रतियोगी परीक्षाओं(जैसे-TET/CTET/TGT-PGT/ शिक्षक भर्ती...) के नोट्स के लिए यहाँ क्लिक करें

Primary Ka Master: NISHTHA TRAINING MODULE 10 प्रश्नोत्तरी [UP_सामाजिक विज्ञान का शिक्षणशास्त्र (उत्तर प्रदेश)] का हल

Primary Ka Master: NISHTHA TRAINING MODULE- 11 की प्रश्नोत्तरी:- UP_भाषा शिक्षण शास्त्र (उत्तर प्रदेश) का हल

Primary Ka Master: NISHTHA TRAINING MODULE- 12 प्रश्नोत्तरी [UP_विज्ञान का शिक्षाशास्त्र (उत्तर प्रदेश)] का हल

07 July 2020

PRIMARY KA MASTER: पंचायती राज विभाग के फरमान के बाद परिपदीय विद्यालयों के शिक्षकों ने तेज किया विरोध, पूछा - 'जब हाथ में फंड नहीं तो कायाकल्प का दबाव क्यों?

PRIMARY KA MASTER: पंचायती राज विभाग के फरमान के बाद परिपदीय विद्यालयों के शिक्षकों ने तेज किया विरोध, पूछा - 'जब हाथ में फंड नहीं तो कायाकल्प का दबाव क्यों?

परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों की वार्षिक गोपनीय रिपोर्ट (एसीआर) में भले स्कूल भवनों के 'ऑपरेशन कायाकल्प को एक मानक बनाया गया हो, लेकिन पंचायतीराज विभाग ने साफ कर दिया है कि पहले पंचायत भवन और सामुदायिक शौचालय ही वनेंगे। अगर पैसा वचेगा तो ही कोई दूसरा पंचायती राज विभाग काम होगा। अव शिक्षक परेशान हैं कि जिसका पैसा, उस विभाग के फरमान के बाद अगर अपनी नीति साफ कर दी है तो उन पर जवरन दवाव क्यों डाला जा रहा है।

प्राथमिक विद्यालयों की सूरत बदलने के लिए ऑपरेशन कायाकल्प लॉन्च किया गया है। इसके तहत प्राथमिक विद्यालयों के हेडमास्टरों और शिक्षकों से कहा गया था कि वे व्यक्तिगत रुचि लेकर गांवों प्रधान और पंचायत सचिवों से विद्यालयों के सुंदरीकरण के लिए रकम आवंटित करवाएं। इस काम में पहले ही शिक्षकों ने आपत्ति दर्ज करवाई थी कि ग्राम पंचायतों के पास तमाम काम होते हैं और ज्यादातर वहां से विद्यालयों के लिए पैसा नहीं मिलता है। इसके वाद विभाग ने ऑपरेशन कायाकल्प को शिक्षकों की एसीआर के मानक में शामिल कर दिया। इसपर शिक्षकों ने कई वार एतराज जताया, लेकिन विभाग में यह व्यवस्था जस की तस है।

वहीं, हाल में पंचायती राज निदेशक ने साफ कर दिया है कि पंचायतों के लिए आने वाले पैसे से पहले पंचायत भवन और सामुदायिक शौचालय वनेंगे, इसके वाद ही दूसरे काम होंगे। पंचायती राज निदेशक किंजल सिंह ने आदेश जारी किए हैं कि ऐसी ग्राम पंचायत जिनमें पर्याप्त धनराशि है, उनमें सर्वोच्च मॉडल के सामुदायिक शौचालय और पंचायत भवनों का निर्माण होगा। वाकी ग्राम पंचायतों में उपलब्ध रकम के मुताविक मॉडल का चयन होगा। ऑपरेशन कायाकल्प इन काम के वाद ही करवाया जाएगा। निर्देश का पालन न होने पर प्रधान और सचिव के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

शिक्षकों पर जिम्मेदारी डालना गलत

PRIMARY KA MASTER: पंचायती राज विभाग के फरमान के बाद परिपदीय विद्यालयों के शिक्षकों ने तेज किया विरोध, पूछा - 'जब हाथ में फंड नहीं तो कायाकल्प का दबाव क्यों? Rating: 4.5 Diposkan Oleh: news