17 July 2020

69000 SHIKSHAK BHARTI सर्वोच्च न्यायालय Shivendra हाल_ए_दिल्ली by सँयुक्त लीगल टीम

69000 SHIKSHAK BHARTI सर्वोच्च न्यायालय Shivendra हाल_ए_दिल्ली by सँयुक्त लीगल टीम


69000 शिक्षक भर्ती सर्वोच्च न्यायालय Shivendra

हाल_ए_दिल्ली सँयुक्त लीगल टीम

⚛️ आगामी सुनवाई बेंच के अनुरूप बुधवार को सम्भावित है (AOR) के अनुरूप,प्रयास रहे सभी टीम का उसके पहले हो सके । उम्मीद है यदि किसी तरह पहले डेट लगती है तो कोई टीम ये न कहे कि हमारी तैयारी नहीं थी । इसलिए पहले से सूचित कर दिया जा रहा है भर्ती के लिए हर प्रयास लगातार किए जा रहे हैं तो रणनीति पर प्रश्नचिन्ह लगाने का कार्य उम्मीद है कोई साथी न करेगा ।

⚛️बिना आरोप प्रत्यारोप के एक सामान्य सा प्रश्न है सामान्य अभ्यर्थियों से, आपका पैसा है यदि कोई अधिवक्ता एक सुनवाई में न बोलता है चलो कोई न, दो में न बोलता चलो कोई न, तीन तीन सुनवाई में वह मौनव्रत धारण किये बैठा है उसके बाद भी उसका खर्च आपके पैसे से जा रहा है क्या आपका इतना भी फर्ज न बनता है कि उस से कुछ बुलवाने के लिए प्रयास किये जायें या उसको बदलकर कोई और बेहतर अधिवक्ता लाया जाए ????

⚛️ एक महत्वपूर्ण बात लोग कह रहे हैं रमणी और पल्लव सिसोदिया का नाम ऑर्डर में नहीं है तो विनय नवारे का भी नहीं है, अब इन मासूम से भोले भाले बच्चों को इतना न पता है कि उस दिन की फ़ोटो उसी समय जब बहस हो रही थी सभी समूहों में भेज दी गई थी आज भी भेज दे रहा हूँ, ऑनस्क्रीन दोनों अधिवक्ता एकसाथ मौजूद थे । बहस के समय राघवेन्द्र भाई सीनियर अधिवक्ता विनय नवारे के वहीं चैम्बर में बैठे हुए थे क्योंकि अधिवक्ता से कार्य लेना है तो आपको अपना शत प्रतिशत देना पड़ेगा ।।🙏🏻💯

⚛️तीन तीन सुनवाई में लोग खुद के जुड़ने की फ़ोटो डालकर खुद की निजी पब्लिसिटी में मशगूल हैं, सीनियर अधिवक्ता आज तक स्क्रीन पर न दिखे हैं फिर भी कुछ लोग भैया जिन्दाबाद हमारे भैया जिन्दाबाद में लगे हुए हैं ।।

बीटीसी 2015 का एकलौते मसीहा बनने वाले लोगों के 15 20 लोग सुनवाई देख रहे थे क्या इनमें से एक ने भी सुनवाई के दौरान आने सीनियर अधिवक्ताओं को देखना मुनासिब न समझा । नौकरी दोस्त अंधभक्त बनने से और चापलूसी से न मिलेगी वह पैरवी से मिलेगी । उसके लिए दिल्ली जाना पड़ेगा और चैंबर चैंबर भटकना पड़ेगा ।


पुनः समस्त चयनितों से कहना चाहूंगा कार्यों की समीक्षा करना सीखिए, अनुभव और जोश का सन्तुलन और सबकी बात को सम्मान केवल सँयुक्त लीगल टीम के साथ सम्भव है आप सबके विचार से लेकर पैरवी के बिन्दु तक आप सबसे लेकर अधिवक्ताओं के साथ साझा किए जाते हैं उसका कारण केवल इतना है कि *केस के बारे में टीम पूर्ण गम्भीर है और कोई हीलाहवाली नहीं चाहती है ।।💯🙏🏻

⚛️सँयुक्त लीगल टीम की तरफ से तीनों सुनवाई में उपलब्ध रहे समस्त अधिवक्ताओं की फीस का पूर्ण विवरण हर अभ्यर्थी के बीच सार्वजनिक है, बैंक विवरण लगातार 94 लोगों के समूह में डाल दिया जा रहा है *जल्द ही समय मिलते ही वह भी एकदिन रवि भाई या राघवेन्द्र भाई लाइव आकर सार्वजनिक कर देंगे ।* सँयुक्त लीगल टीम मात्र पारदर्शिता के साथ साथ बेहतर परिणाम को देने के लिए प्रस्तुत है । टीम समस्त अभ्यर्थियों से यह अपेक्षा रखती है कि सभी चयनित अभ्यर्थी टीम पर भरोसा बनाए रखें और अपने मित्रों को भी टीम के साथ जोड़कर सुनवाई पर चयनितों के हित के संरक्षण का प्रबंध करें ।।

⚛️ ऑर्डर के सम्बंध में आज स्टेनो की गलती का हवाला देने वाले लोग की बुद्धिमत्ता उस समय जिसके चरणों मे गिरवी पड़ी थी उसी से ये बात भी पूछ लें *प्रथम सुनवाई के समय में सीनियर अधिवक्ता AK सिन्हा के नाम के आगे Sr. न लिखे होने पर उनको जूनियर अधिवक्ता घोषित कर दिया गया था* इसलिए चापलूसी का विश्वरिकॉर्ड बनाने को आतुर लोग संयम रखना सीखें ।।

⚛️समस्त चयनित अभ्यर्थियों से सँयुक्त लीगल टीम की एकमात्र प्रार्थना ये है या तो आप टीम पर भरोसा करके टीम के साथ जुड़ जाएं अन्यथा जिस टीम से जुड़े हैं उन सभी टीमों को हर हाल में दिल्ली पहुँचने का हुक्म दें क्योंकि घर बैठकर पैरवी के कारण ही आज 37000 पद होल्ड हुए हैं (उस दिन सुनवाई के समय मैं स्वयं दिल्ली में था), यदि उसी समय लोगों ने मदद की होती तो आज जो पैनल है वही उस समय भी खड़ा करके चलता, ।।

डबल बेंच की जीत की जयजयकार बहुत हुई यह सुप्रीमकोर्ट है यहां जो होगा वह निर्णायक होगा डबल बेंच का ऑर्डर शून्य हो जाएगा यहां के ऑर्डर के बाद इसलिए सभी टीमों पर ये आरोप नहीं मेरी एक चयनित अभ्यर्थी होने के नाते मात्र करबद्ध प्रार्थना है यदि आप सबने जिम्मेदारी ली है तो उसका निर्वहन करें और #दिल्ली_पहुँचे ।

सीनियर अधिवक्ता मिलते नही हैं ये बहाना बन्द होना चाहिए राघवेन्द्र भाई और रवि भाई लगातार चैंबर में जाकर PPE किट के साथ SANITIZE करके खुद को लगातार ब्रीफ कर रहे हैं जबकि चैंबर कंटेन्मेंट जोन में हैं ।

 सँयुक्त लीगल टीम लगातार आपके सामने मिलकर ब्रीफिंग का पूरा डाटा रखती रही है समय समय पर ।।

#सँयुक्तलीगलटीम

69000 SHIKSHAK BHARTI सर्वोच्च न्यायालय Shivendra हाल_ए_दिल्ली by सँयुक्त लीगल टीम Rating: 4.5 Diposkan Oleh: news