18 June 2020

अनामिका प्रकरण के बाद दिखी सख्ती, जांचे जा रहे दस्तावेज, कमेटी द्वारा इन दस्तावेजों की स्क्रीनिंग की गई तो कुछ दस्तावेज संदेह के दायरे में पाए गए हैं

अनामिका प्रकरण के बाद दिखी सख्ती, जांचे जा रहे दस्तावेज, कमेटी द्वारा इन दस्तावेजों की स्क्रीनिंग की गई तो कुछ दस्तावेज संदेह के दायरे में पाए गए हैं


कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालयों (केजीबीवी) की 68 शिक्षिकाओं और कर्मचारियों ने अपने दस्तावेज जमा किए। कमेटी द्वारा इन दस्तावेजों की स्क्रीनिंग की गई तो कुछ दस्तावेज संदेह के दायरे में पाए गए हैं। यह कागजात सही हैं अथवा गलत यह तभी स्पष्ट होगा, जब चयन पत्रवली से मूल अभिलेखों का मिलान होगा।

कस्तूरबा विद्यालय की कथित विज्ञान शिक्षिका अनामिका शुक्ला के फर्जीवाड़ा का मामला सामने आने के बाद जिले के सभी 20 केजीबीवी की शिक्षिकाओं और कर्मचारियों के दस्तावेजों की जांच मंगलवार से शुरू हुई है। दो दिनों में होलागढ़, बहरिया, फूलपुर, धनूपुर, सोरांव, मऊआइमा और कौड़िहार ब्लॉक के विद्यालयों के 68 स्टॉफ ने अपने मूल और फोटो स्टेट कागजात जमा किए।

चार सदस्यीय कमेटी ने सभी दस्तावेजों की स्क्रीनिंग की, जिसमें से कुछ दस्तावेजों में गड़बड़ियों के संकेत मिले हैं। कमेटी में शामिल एक अधिकारी ने बताया कि चयन पत्रवली से दस्तावेजों के मिलान में गड़बड़ी मिली तो संबंधितों के खिलाफ कार्रवाई होगी। बेसिक शिक्षा अधिकारी संजय कुमार कुशवाहा ने दस्तावेजों की जांच के लिए 19 जून तक का समय कमेटी को दिया है पर तय तिथि में सभी स्कूलों की शिक्षिकाओं व कर्मचारियों के दस्तावेजों का सत्यापन होना मुश्किल है।

अनामिका प्रकरण के बाद दिखी सख्ती, जांचे जा रहे दस्तावेज

जासं, कौशांबी : कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय में कार्यरत कर्मचारियों के शैक्षिक दस्तावेजों की जांच बेसिक शिक्षा विभाग ने शुरू कर दी है। गुरुवार को भी सभी स्कूलों में तैनात शिक्षकों व कर्मचारियों के दस्तावेजों की जांच होगी। इसके बाद शासन को रिपोर्ट भेजी जाएगी। डीसी बालिका योगेश तिवारी ने बताया कि बुधवार को कड़ा, सिराथू, मंझनपुर व मूरतगंज में तैनात रहे 60 कर्मचारियों के दस्तावेजों को जमा कराया गया है। प्रत्येक स्कूल के शिक्षक व अन्य कर्मचारियों के दस्तावेज जमा कराने के साथ ही उनकी काउंसिलिंग भी की गई । प्रथम दृष्टया कोई संदिग्ध नहीं मिला। आधार, पैन, निवास और जाति प्रमाणपत्र के साथ ही उनके हाईस्कूल, इंटरमीडिएट, स्नातक, बीएड या अन्य समकक्ष डिग्री की मूल प्रति जमा कराई गई है, जिसे सत्यापन के लिए भेजा जाएगा।

अनामिका प्रकरण के बाद दिखी सख्ती, जांचे जा रहे दस्तावेज, कमेटी द्वारा इन दस्तावेजों की स्क्रीनिंग की गई तो कुछ दस्तावेज संदेह के दायरे में पाए गए हैं Rating: 4.5 Diposkan Oleh: news