11 June 2020

10 अगस्त से प्राइमरी कक्षाएं और 24 अगस्त से प्री-प्राइमरी कक्षाएं संचालित करने का प्रस्ताव भेजा गया है: यह है प्रस्तावित कार्यक्रम: सीएम को भेजा ज्ञापन

10 अगस्त से प्राइमरी कक्षाएं और 24 अगस्त से प्री-प्राइमरी कक्षाएं संचालित करने का प्रस्ताव भेजा गया है: यह है प्रस्तावित कार्यक्रम: सीएम को भेजा ज्ञापन


निजी स्कूल संगठन के प्रस्तावित कार्यक्रम के तहत 20 जुलाई से सीनियर कक्षाएं शुरू की जा सकती हैं। इसके अलावा 3 अगस्त से जूनियर कक्षाएं, 10 अगस्त से प्राइमरी कक्षाएं और 24 अगस्त से प्री-प्राइमरी कक्षाएं संचालित करने का प्रस्ताव भेजा गया है।

स्थिति सामान्य होने पर खोले जाएं प्री और प्राइमरी स्कूल अभिभावक सबसे ज्यादा प्री स्कूलों को लेकर चिंतित हैं। अभिभावकों का कहना है कि जब तक स्थितियां सामान्य नहीं होती तब तक ऑनलाइन क्लासेस को जारी रखा जाए। स्थितियां सामान्य होने पर ही स्कूल शुरू हो। अभिभावक आलोक कुमार का कहना है सैनिटाइजर मास्क जैसी व्यवस्थाएं प्री प्राइमरी और प्राइमरी के छोटे बच्चों के साथ सुनिश्चित कर पाना संभव नहीं है। इन परिस्थितियों में कोई जोखिम उठाने के बजाय इन क्लासेज को अगले 1 साल तक पूरी तरीके से बंद कर दिया जाए। उधर, शिक्षा विभाग स्कूल शुरू करने को लेकर संभावनाएं तलाशने लगा है।

दो शिफ्ट का सुझाव स्कूलों ने दो शिफ्ट में कक्षाएं चलाने का प्रस्ताव रखा है। इसमें छात्रों को अलग-अलग सेक्शन में विभाजित करने, सभी स्कूल परिसरों में सैनिटाइजेशन की उचित व्यवस्था करने और बच्चों की सुरक्षा को वरीयता देने का सुझाव है। इस व्यवस्था का विकल्प बड़ी संख्या में लोगों ने सुझाया है।

जल्दबाजी नहीं करें अभिभावक कल्याण संघ के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप कुमार श्रीवास्तव का कहना है कि कोरोना का खतरा अभी बरकरार है। निजी स्कूल प्रबंधन इजराइल जैसी गलती न करें। वहां स्कूल खोलने पर सैकड़ों बच्चे संक्रमित हुए हैं। अभिभावकों ने इस सत्र को शून्य करने की मांग उठाई है।


राजधानी के निजी स्कूल प्रबंधनों ने जुलाई से स्कूल खोलकर कक्षाएं संचालित करने की तैयारी शुरू कर दी है। अनएडेड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन की ओर से इस सम्बंध में उपमुख्यमंत्री को ज्ञापन भी भेजा है। उधर स्कूलों के इस फैसले से अभिभावक खासे नाराज हैं, उनका कहना है कि बच्चों की सुरक्षा सबसे अहम है।

अभिभावक कल्याण संघ के अध्यक्ष प्रदीप कुमार श्रीवास्तव का कहना है कि स्कूलों में कक्षाओं का संचालन स्थितियां सामान्य होने के बाद ही किया जाना चाहिए।

जबकि स्कूल खोलने के सम्बंध में एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल का दावा है कि कोविड-19 संक्रमण से बच्चों की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखते हुए स्कूल खोले जाएंगे।


बताया जा रहा है कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन, मास्क और सैनिटाइजर के नियमों का पूरा पालन किया जाएगा।

10 अगस्त से प्राइमरी कक्षाएं और 24 अगस्त से प्री-प्राइमरी कक्षाएं संचालित करने का प्रस्ताव भेजा गया है: यह है प्रस्तावित कार्यक्रम: सीएम को भेजा ज्ञापन Rating: 4.5 Diposkan Oleh: news