15 February 2020

लर्निंग आउटकम परीक्षा में अब मां शिक्षक व पिता बनेंगे पर्यवेक्षक

लर्निंग आउटकम परीक्षा में अब मां शिक्षक व पिता बनेंगे पर्यवेक्षक

परिषदीय स्कूलों में अध्ययनरत छात्रों के लर्निंग आउटकम का परिणाम आ चुका है। छात्रों के अधिगम स्तर में सुधार के लिए बेसिक शिक्षा विभाग ने कवायद शुरू कर दी है। शिक्षक जिन बच्चों का अधिगम स्तर नहीं बढ़ा पा रहे हैं, उनके लिए एक कार्यक्रम बनाया गया है। इसमें बच्चे की मां को शिक्षक की भूमिका अदा करने को प्रोत्साहित किया जाएगा।

शिक्षक शैक्षिक रूप से कमजोर बच्चों के घर जाकर माता-पिता को बच्चों को पढ़ने में मदद करने को प्रोत्साहित करेंगे। पिता के कामकाजी होने पर उनको कम समय में बच्चे से विषय के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने की विधा बताएंगे। इसके लिए कुछ टिप्स बताए जाएंगे। जिससे कि वह स्वयं बच्चे का अधिगम स्तर जांच सके। इसके अलावा अभिभावकों को रिपोर्ट कार्ड के बारे में भी बताया जाएगा।

अभिभावक ऐसे जान सकते हैं अधिगम स्तर: कक्षा एक का छात्र पांच शब्द पहचान ले। दो का छात्र अनुच्छेद के 20 शब्द प्रति मिनट के प्रवाह में पढ़ लेता हो। कक्षा तीन में 35 शब्द पढ़ लेता हो। कक्षा चार व पांच में छोटे व बड़े अनुच्छेद के 75 फीसद प्रश्नों को सही कर ले। गणित में भी प्रबंध किया गया है।

’>>शैक्षिक रूप से कमजोर छात्रों का अधिगम स्तर सुधारने को बनाई योजना

’>>अभिभावकों को अध्ययन में सहयोग करने के लिए किया जाएगा प्रोत्साहित

आंकड़ों पर एक नजर

89133 छात्र लर्निंग आउटकम परीक्षा में शामिल हुए।

41507 छात्र सीडीई श्रेणी में रहे।

47626 छात्र ए प्लस ए और बी में श्रेणी में रहे।

छात्रों का शैक्षिक स्तर बढ़ाने के लिए कार्यक्रम बनाया गया है। शिक्षक, अभिभावकों को घर में रहने के दौरान बच्चे को पढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करेंगे। जिससे शैक्षिक स्तर में सुधार हो।

- विनय मोहन वन, एडी बेसिक देवीपाटन मंडल गोंडा।

शिक्षक का अभिभावकों को मंत्र

’ बच्चों को नियमित स्कूल भेजें, जिससे पाठ न छूटे।

लर्निंग आउटकम परीक्षा में अब मां शिक्षक व पिता बनेंगे पर्यवेक्षक Rating: 4.5 Diposkan Oleh: news