02 December 2019

अभी पढ़ना है, मेरी शादी रुकवा दें, माता-पिता ने तो खेलने-पढ़ने की उम्र में 11 वर्ष की बेटी को बालिका वधू बनाने की तैयारी कर ली थी

अभी पढ़ना है, मेरी शादी रुकवा दें, माता-पिता ने तो खेलने-पढ़ने की उम्र में 11 वर्ष की बेटी को बालिका वधू बनाने की तैयारी कर ली थी

फतेहपुर : माता-पिता ने तो खेलने-पढ़ने की उम्र में 11 वर्ष की बेटी को बालिका वधू बनाने की तैयारी कर ली थी। विरोध पर बेटी को डपट देते थे। स्कूल भी भेजना बंद कर दिया। बेटी भी हिम्मत वाली थी। पढ़ना बाल विवाह के खिलाफ थाने की चौखट तक बिगुल फूंक दिया।
फोन करके पीआरवी को बुलाया और थाने पहुंच गई। रोते हुए पूरी दास्तान बताई। बोली, साहब! मुङो अभी पढ़ना है, मेरी शादी रुकवा दें। उसका दर्द सुन पुलिस की भी आंखें नम हो गईं। पिता को बुला बाल विवाह के अपराध पर जेल भेजने की चेतावनी दी। बाल विवाह नहीं करने की बात लिखित लेने के बाद छोड़ा।

कल्यानपुर क्षेत्र में गंगा किनारे के पुरानी कटरी मजरे भाऊपुर में लक्ष्मी देवी श्रीसदगुरु देव जूनियर हाईस्कूल में कक्षा छह की छात्र है। पिता सूरजभान निषाद ने उसका विवाह जिला उन्नाव के दूलीखेड़ा निवासी 28 वर्षीय रोहित निषाद के साथ दस तय कर दिया। यह बात छात्र को पता चली तो उसने विरोध शुरू कर दिया। किसी ने उसकी नहीं सुनी। तब उसको पुलिस से मदद लेने की बात सूझी।

रविवार को घर से सभी सदस्य खेत चले गए तो मोबाइल से डायल 112 मिलाकर पूरी बात बताई। आधा घंटा के अंदर पीआरवी पहुंची और उसे थाने ले गई। छात्र ने पुलिस को बताया कि जिससे शादी तय हुई, वह युवक अक्सर घर आता है। पिता के साथ बैठकर शराब पीता है। जब पिता से कहा, अभी पढ़ने दो, शादी बाद में कर देना तो उन्होंने स्कूल जाने से रोक दिया। डांटते हुए कहा कि तुम्हारी मेरे सामने यह सब कहने की हिम्मत कैसे हुई। मां ने भी शांत कर दिया कि बेटी विवाह तो एक दिन होना ही है। लड़का जान-पहचान का है, शादी कर लो।

थानाध्यक्ष जेपी उपाध्याय ने बताया कि किशोरी को अपना मोबाइल नंबर भी दे दिया है। बालिग होने के बाद ही शादी के लिए पिता राजी हो गया है और गलती के लिए क्षमा मांगी है, तभी छोड़ा गया है। बीट की पुलिस किशोरी का हाल-चाल लेती रहेगी।

’>>बेटी को बालिका वधू बनाने की तैयारी पर पुलिस की निगरानी

’>>11 वर्ष की बेटी की 28 के युवक के साथ शादी करने चला था पिता

अभी पढ़ना है, मेरी शादी रुकवा दें, माता-पिता ने तो खेलने-पढ़ने की उम्र में 11 वर्ष की बेटी को बालिका वधू बनाने की तैयारी कर ली थी Rating: 4.5 Diposkan Oleh: news