08 October 2019

फर्जीवाड़ा: एक और शिक्षक के अभिलेख संदिग्ध

फर्जीवाड़ा: एक और शिक्षक के अभिलेख संदिग्ध

गोंडा : बेसिक शिक्षा परिषद की विभिन्न शिक्षक भर्तियों में हुई गड़बड़ियां एक-एक कर सामने आ रही हैं। अब एक और शिक्षक की नियुक्ति जांच के घेरे में है। दूसरे का अभिलेख लगाकर नौकरी हासिल करने की बात कही जा रही है। मामले की जांच खंड शिक्षा अधिकारी को सौंपी गई है। अब तक 61 लोगों को प्रधानाध्यापक व सहायक अध्यापक पद से बर्खास्त किए गए है।
मामला वर्ष 1998 में हुई शिक्षक भर्ती से जुड़ा हुआ है। सहायक अध्यापक पद नियुक्ति पाने वाला शिक्षक का प्रधानाध्यापक पद पर प्रमोशन भी पा चुका है। अब दूसरे जिले के एक व्यक्ति ने शिकायती पत्र भेजकर आरोप लगाया कि उसके पैन नंबर का इस्तेमाल किया जा रहा है। शिकायत मिलने के बाद अफसर हरकत में आ गए हैं। पूर्व में भी इस तरह के मामले सामने आए थे, जिसमें बर्खास्तगी की गई है।

संबंधित को नोटिस भेजने से पहले पुलिस की निगरानी बढ़ाने की योजना बनाई गई है। विभागीय अधिकारी अब यह जानने को उत्सुक हैं कि अभी और कितने लोग इस तरह से नौकरी कर रहे हैं साथ ही किस तरह से इनकी नियुक्ति हो गई ? जिससे कि सभी को एक साथ पकड़ा जा सके। बेसिक शिक्षा अधिकारी मनिराम सिंह ने बताया कि दूसरे के अभिलेख से नौकरी हथियाने का एक और मामला सामने आया है। इसमें जांच कराई जा रही है। संबंधित को भागने से रोकने के लिए पुलिस की मदद ली जाएगी। जिससे कि पूरे मामले से पर्दा उठ सके।

फर्जीवाड़ा: एक और शिक्षक के अभिलेख संदिग्ध Rating: 4.5 Diposkan Oleh: news