12 September 2019

आयोग सख्त, अब कार्रवाई से नहीं बच सकेंगे भ्रष्ट अफसर

आयोग सख्त, अब कार्रवाई से नहीं बच सकेंगे भ्रष्ट अफसर

भ्रष्टाचार या अनुशासनहीनता के आरोपित सरकारी सेवक अब विभागों में साठगांठ कर बच नहीं पाएंगे। कार्रवाई की प्रक्रिया में लंबे समय से चले आ रहे ढुलमुल रवैये पर उप्र लोकसेवा आयोग अध्यक्ष डॉ. प्रभात कुमार ने कड़ी नाराजगी जताई। इसे गंभीरता से लेते हुए मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने सभी अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव और सचिवों को आदेश दिया है कि ऐसे मामलों में संबंधित संपूर्ण ब्योरा आयोग को भेजा जाए।
भ्रष्ट अफसरों पर कार्रवाई को लेकर सरकार के तेवर सख्त हैं लेकिन, उस अनुपात में कार्रवाई नहीं हो पा रही है। यह व्यवस्था है कि किसी भी सरकारी सेवक पर कार्रवाई से पहले उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग से भी परामर्श किया जाए। इस व्यवस्था को दरकिनार कर अफसरों को कार्रवाई से बचाने का प्रयास होता है। आयोग को जरूरी दस्तावेज ही नहीं भेजे जाते। इस पर आयोग अध्यक्ष डॉ. प्रभात कुमार ने शासन को पत्र लिखकर नाराजगी जताई। कहा कि विभिन्न विभागों द्वारा अनुशासनिक कार्रवाई के मामलों में आरोप पत्र, आरोप पत्र का उत्तर, जांच आख्या, आरोपित अधिकारी का आवेदन, प्रक्रिया संबंधी मूल पत्रवली की प्रति उपलब्ध नहीं कराई जाती है। इसका संज्ञान लेते हुए मुख्य सचिव ने सभी प्रमुख अधिकारियों को निर्देश दिया कि आयोग को आरोपित अधिकारी का विवरण, जांच प्रारंभ करने के आदेश की प्रति, आरोप पत्र की प्रति, जांच आख्या की प्रति, वृहद दंड दिए जाने के पूर्व नियमानुसार कारण बताओ नोटिस की प्रति, कारण बताओ नोटिस के संबंध में आरोपित अधिकारी का जवाब, अधिकारी के जवाब पर शासन की रिपोर्ट समेत सभी संबंधित दस्तावेज आयोग को जरूर भेजे जाएं। तिवारी ने इस आदेश का कड़ाई से पालन कराने के निर्देश दिए हैं।

राज्य ब्यूरो, प्रयागराज: उप्र लोकसेवा आयोग पीसीएस अभ्यर्थियों के चयन में नया रिकॉर्ड बनाने जा रहा है। पीसीएस 2017 की मुख्य परीक्षा में सफल 2029 अभ्यर्थियों का महज 15 दिन में इंटरव्यू होगा। इस भर्ती के 676 पदों के लिए साक्षात्कार का कार्यक्रम यूपीपीएससी ने जारी कर दिया है। पहली बार रविवार को साक्षात्कार कराए जा रहे हैं। 16 से 30 सितंबर तक इंटरव्यू अनवरत चलेंगे।
उप्र लोकसेवा आयोग ने सम्मिलित राज्य/प्रवर अधीनस्थ सेवा यानी पीसीएस 2017 की मुख्य परीक्षा का परिणाम सात सितंबर को घोषित किया था। मुख्य परीक्षा में कुल 12295 अभ्यर्थी शामिल हुए थे। इस भर्ती के 676 पदों के लिए 2029 अभ्यर्थियों को इंटरव्यू में शामिल होने के लिए सफल घोषित किया गया था। अब उसका विस्तृत कार्यक्रम जारी हुआ है। इंटरव्यू 16 सितंबर से ही शुरू होंगे और 30 सितंबर तक चलेंगे। इस दौरान 22 व 29 सितंबर को रविवार पड़ रहा है, उस दिन यानी साप्ताहिक अवकाश को भी पहली बार साक्षात्कार कराए जाएंगे। परीक्षा नियंत्रक अर¨वद कुमार मिश्र की ओर से जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि 30 सितंबर को केवल कृषि वर्ग के अभ्यर्थियों का साक्षात्कार होगा। किस तारीख को किस अभ्यर्थी को साक्षात्कार में पहुंचना है इसके लिए वे वेबसाइट पर जाकर घोषित अनुक्रमांक देख सकते हैं। पीसीएस 2017 की इस भर्ती का अंतिम परिणाम अक्टूबर माह के पहले पखवारे में घोषित होगा। डिप्टी कलेक्टर के 22 और डिप्टी एसपी के 90 सहित 27 प्रकार के कुल 676 पदों पर चयन हो रहा है। इंटरव्यू में इस तरह की तत्परता इसलिए हो रही है, क्योंकि पीसीएस 2018 की मुख्य परीक्षा 18 अक्टूबर से प्रस्तावित है, आयोग की मंशा है कि उसके पहले 2017 का अंतिम रिजल्ट आ जाए, ताकि सफल अभ्यर्थी अगली परीक्षा न दें और नए लोगों को अवसर मिल सके।

आयोग सख्त, अब कार्रवाई से नहीं बच सकेंगे भ्रष्ट अफसर Rating: 4.5 Diposkan Oleh: news