12 September 2019

परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों को अब उपस्थिति प्रमाणित कराने के ‘प्रेरणा’ एप सेल्फी नहीं अपलोड करनी होगी, अब ‘प्रेरणा’ एप पर नहीं देनी होगी सेल्फी

परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों को अब उपस्थिति प्रमाणित कराने के ‘प्रेरणा’ एप सेल्फी नहीं अपलोड करनी होगी, अब ‘प्रेरणा’ एप पर नहीं देनी होगी सेल्फी

वाराणसी : परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों को अब उपस्थिति प्रमाणित कराने के ‘प्रेरणा’ एप सेल्फी नहीं अपलोड करनी होगी। शिक्षकों के प्रबल विरोध को देखते हुए बेसिक शिक्षा विभाग बैकफुट पर आ गया है। हालांकि एप पर कायाकल्प योजना के तहत विद्यालयों में कराए जा रहे कार्य व उपलब्ध संसाधनों को अपलोड करना होगा। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी जय सिंह के मुताबिक ‘प्रेरणा’ एप शिक्षकों को डाउनलोड करना होगा लेकिन अब शिक्षकों को इस एप का उपयोग विद्यालयों के विकास के लिए करना है। उपस्थिति-अनुपस्थिति का विवरण इस एप पर नहीं अपलोड करना होगा। उपस्थिति व अनुपस्थिति के लिए पहले की भांति विद्यालयों का निरीक्षण किया जाएगा।
ये होंगे पर काम : आधारभूत मानकों का अनुश्रवण, मिड-डे मील, क्वॉलिटी सुपरविजन, स्कूल प्रबंध समिति-गतिविधियां, छात्र मूल्यांकन व शिक्षक, दीक्षा व निष्ठा, शिक्षक-प्रशिक्षक एवं क्षमता संवर्धन संबंधी कार्य को तवच्जो दी जाएगी। इससे पहले परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों ने बुधवार ‘प्रेरणा’ एप के खिलाफ विभिन्न ब्लॉकों पर धरना-प्रदर्शन किया। इस दौरान उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के बैनर तले शिक्षकों ने विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और मोबाइल ‘एप’ डाउनलोड करने का संकल्प लिया। शिक्षकों ने ‘प्रेरणा’ एप के खिलाफ प्रदेशव्यापी आंदोलन की चेतावनी दी। विद्यालय बंद होने के बाद नगर के शिक्षकों का जुटान कबीरचौरा स्थित यूआरसी पर हुआ। इस दौरान सभा कर शिक्षकों ने प्रदेश सरकार को जमकर कोसा। उधर चिरईगांव, बड़ागांव, काशी विद्यापीठ सहित अन्य ब्लाकों पर भी शिक्षकों ने धरना-प्रदर्शन किया।

परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों को अब उपस्थिति प्रमाणित कराने के ‘प्रेरणा’ एप सेल्फी नहीं अपलोड करनी होगी, अब ‘प्रेरणा’ एप पर नहीं देनी होगी सेल्फी Rating: 4.5 Diposkan Oleh: news