10 August 2019

अमान्य स्कूलों के विरुद्ध करें कठोर कार्रवाई, प्राथमिक विद्यालयों में 1200 व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में 600 प्रधानाध्यापकों के पद रिक्त हैं

अमान्य स्कूलों के विरुद्ध करें कठोर कार्रवाई, प्राथमिक विद्यालयों में 1200 व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में 600 प्रधानाध्यापकों के पद रिक्त हैं

गोंडा : राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ के पदाधिकारियों ने शिक्षकों की समस्याओं का विभागीय स्तर पर समाधान न होने पर सिटी मजिस्ट्रेट से मुलाकात की। डीएम को संबोधित मांग पत्र सौंपा। ग्रामीण क्षेत्रों में धड़ल्ले से अमान्य स्कूल संचालित होने की शिकायत की। आरोप लगाए कि अधिकारी कठोर कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। जिलाध्यक्ष वीरेंद्र कुमार मिश्र ने कहा कि प्राथमिक विद्यालयों में 1200 व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में 600 प्रधानाध्यापकों के पद रिक्त हैं। अवशेष भुगतान, एकल व बंद स्कूलों में अध्यापकों की तैनाती का मुद्दा उठाया। पारस्परिक स्थानांतरण के लिए आवेदन तिथि बढ़ाने की मांग की। महामंत्री हंसराज वर्मा ने कहाकि अमान्य स्कूल दो-चार दिनों के लिए बंद हुए थे, अब फिर से संचालन हो रहा है। शिक्षक नेताओं ने बिना स्पष्टीकरण लिए अध्यापकों को निलंबित किए जाने पर आपत्ति जताई। उदयभान वर्मा, राहुल श्रीवास्तव, गुलाम नबी, नवरत्न सिंह, सुनील पांडेय, कृष्ण कुमार गुप्त मौजूद रहे।

अमान्य स्कूलों के विरुद्ध करें कठोर कार्रवाई, प्राथमिक विद्यालयों में 1200 व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में 600 प्रधानाध्यापकों के पद रिक्त हैं Rating: 4.5 Diposkan Oleh: news