12 February 2019

प्रश्न पत्र आउट होने के प्रकरण की न्यायिक जांच समिति को मिले साक्ष्य, डिग्री शिक्षक भर्ती परीक्षा का इस हफ्ते तक होगा भविष्य

प्रश्न पत्र आउट होने के प्रकरण की न्यायिक जांच समिति को मिले साक्ष्य, डिग्री शिक्षक भर्ती परीक्षा का इस हफ्ते तक होगा भविष्य

 अशासकीय महाविद्यालयों में असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती परीक्षा का प्रश्नपत्र लीक होने के आरोप की न्यायिक जांच इस हफ्ते परीक्षा का भविष्य तय कर देगी। अभ्यर्थियों से आरोप के संबंध में साक्ष्य लेने की समय सीमा सोमवार को खत्म हो गई है। समिति को प्रदेश भर से मिले साक्ष्य परीक्षा संस्था में ही व्यापक गड़बड़ी की ओर इशारा कर रहे हैं। अभ्यर्थियों ने न्यायिक अधिकारी और उनकी समिति से निष्पक्ष जांच की उम्मीद लगाई है। हालांकि जांच रिपोर्ट के आधार पर निर्णय उप्र उच्चतर शिक्षा सेवा चयन आयोग (यूपीएचईएससी) को लेना है।

असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती की 12 जनवरी को तीसरे चरण की लिखित परीक्षा छह विषयों के लिए हुई थी। इसमें एक विषय का प्रश्नपत्र आउट होने का आरोप है। जिसके सभी उत्तर सोशल मीडिया पर वायरल हुए थे। कन्नौज के सेवानिवृत्त जज सुभाषचंद्र बोस की अध्यक्षता में एकल और तथ्यात्मक अन्वेषण समिति इस प्रकरण की जांच कर रही है। सोमवार तक इस समिति को प्रदेश भर से लिखित और मौखिक में साक्ष्य दिए गए। तमाम अभ्यर्थियों ने यूपीएचईएससी पहुंचकर समिति को कई गोपनीय जानकारी भी दी जिसमें परीक्षा संस्था की बड़ी खामियां भी उजागर हुई हैं। सभी शिकायतों और साक्ष्यों के आधार पर न्यायिक समिति इस हफ्ते अपनी रिपोर्ट तैयार करेगी। जिस पर यूपीएचईएससी का बोर्ड जल्द ही कोई निर्णय लेगा। सचिव वंदना त्रिपाठी का कहना है कि न्यायिक जांच में कौन से साक्ष्य दिए गए यह गोपनीय है। लेकिन, इतना जरूर है कि जांच रिपोर्ट पर जल्द ही कोई फैसला लिया जाएगा।

प्रश्न पत्र आउट होने के प्रकरण की न्यायिक जांच समिति को मिले साक्ष्य, डिग्री शिक्षक भर्ती परीक्षा का इस हफ्ते तक होगा भविष्य Rating: 4.5 Diposkan Oleh: news